उपलब्धियां

गणंतत्र दिवस के अवसर प्रतिवर्ष विद्यालय द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुती दी जाती है। जिनका नगर मे श्रेष्ठतम प्रदर्शन होता है।

नवीन भवन का लोकापर्ण तत्कालीन मुख्यमंत्री माननीय श्री बाबूलाल गौर के करकमलो के द्वारा सन 2005-06 में किया गय। इस अवसर पर विद्यालय माॅ सरस्वती महायज्ञ 5 दिवसीय का आयोजन समिति के मार्गदर्शन मे किया गया।

शिलान्यास – विद्यालय में प्रयोगशाला कक्ष का शिलान्यास सन 2005 में माननीय श्री सरताजसिंह जी के कर कमलो द्वारा किया गया।

समर्पण दिवस – प्रतिवर्ष विद्यालय में बंसत पंचमी जन्मोत्सव के सुअवसर पर माॅ सरस्वती जी का हवन पूजन के उपरांत समर्पण किया जाता है। जिसमे नगर के गणमान्य नागरिक व विद्यालय के आचार्य दीदी , भैया बहिन माॅ सरस्वती जी पूजन अर्चना करते हैं।

पर्यावरण सरंक्षण की दृष्टि से विद्यालय में प्रति वर्ष विद्यालय में जुलाई माह में वृक्षारोपण का कार्यक्रम मुख्य अतिथि एवं विद्यालय के भेया /बहिनो के द्वारा किया जाता है। इस कार्यक्रम में विद्यालय के आचार्य/दीदी का सहयोग रहता है।

सरस्वती महायज्ञ – सन् 2005 में नवीन विद्यालय भवन में माॅ सरस्वती का 5 दिवसीय महायज्ञ का आयेाजन किया जिमसें साधु संतो के प्रवचन एवं पण्डितो के द्वारा पूजा अर्चना की गई। इस कार्यक्रम के अंतिम दिन भंडारे एवं विद्यालय का लोकार्पण कार्यक्रम की अध्यक्षता विद्या प्रतिष्ठान मध्यभारत प्रांत के तत्कालीन अध्यक्ष माननीय गोविंदप्रसाद जी शर्मा की अध्क्षता एवं तत्कालीन मुख्यमंत्री माननीय बाबूलाल जी गौर के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। पाॅच दिवसीय माॅ सरस्वती महायज्ञ समाज ,आचार्य/दीदी/ भैया/बहिनों एवं गणमान्य नागरिको का सहयोग प्राप्त हुआ। विद्यालय के नेताजी सुभाषचन्द्र बोस शिक्षा समिति सोहागपुर के तत्कालीन अध्यक्ष रविशंकर दुबे,सचिव अरविंद सिंह जी चैहान,व्यवस्थापक बालपुरी जी गोस्वामी,एवं शिक्षा समिति के माननीय पदाधिकारीगण का सहयोग प्राप्त हुआ।

मातृसम्मेलन – विद्यालय मे बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए सन् 2013 में एवं सन् 2016 को मात् सम्मेलन का आयोजन किया गया। इसमे ा श्रीमती सुनीता पांडे दीदी प्रांतीय बालिका शिक्षा प्रमुख एवं अवधेश जी त्यागी विभाग समन्वयकद नर्मदापुरम् का गार्गदर्शन प्राप्त हुआ। इस अवसर पर प्रांतीय बालिका शिक्षा प्रमुख श्रीमती सुनीता पंाडे ने अपने उद्बोधन में कहा बालिका आपनी व्यक्तिगत समस्याओ को अपनी माॅ को बताना चाहिए। आज सरकार ने बालिका शिक्षा की ओर अधिक घ्यान दिया है। उनकी पढाई में विद्यालय के अलावा परिवार का सहयोग रहता हेै। आज भी ग्रामीण क्षेत्र में बालिकाओ को कम पढाया जाता है। आज हमारी सरकार ने बालिकाओ की पढाई के लिए काफी योजनाएं प्रारंभ की है। इस अवसर पर विद्यालय परिवार संख्या में माताएं बहिनेें उपस्थित थी।

मेरा विद्यालय एक नजर में – नगर में भारतीय संस्कृति से ओतप्रोत हमारा विद्यालय जाना जाता है। जहाॅ बालिका बालिकाऐं शिक्षा के साथ साथ अन्य गतिविधियो मे भाग लेती है। जो समाज और देश के महत्वपूर्ण है। हमारे विद्यालय मे बालिका का सर्वांगीण विकास किया जाता है।

सुभाषचन्द्र बोस जयंती – विद्यालय द्वारा प्रतिवर्ष 23 जनवरी को सुभाषचन्द्र्र जयंती बडी धूमधाम से मनाई जाती है। इस अवसर पर नगर मे शोभायात्रा बडी धूमधाम से निकाली जाती है तथा विद्यालय मे अनेक प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमो का आयोजन किया जाता है। इस कार्यक्रम में नगर केे गणमान्य नागरिक, एवं अभिभावक भी उपस्थित रहते हेै।

राष्ट्रीय त्यौहार के सुअवसर पर विद्यालय में प्रतिवर्ष शारीरिक कार्यक्रमो का प्रदर्शन विद्यालय एवं नगर के मध्य प्रस्तुत किया जाता है। श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले भेैया/बहिनो को प्रोत्साहन हेतु पुरूस्कार दिया जाता हैं ।

प्रतियोगिताये – प्रतिष्ठान के द्वारा पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओ का आयोजन किया जाता है। जिसमें श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले भेया/बहिनो को पुरूस्कार दिया जाता है।

स्वच्छता अभियान के अन्तर्गत विद्यालय के द्वारा स्चच्छता अभियान कार्यक्रम के तहत स्वच्छता रैली निकाली गई, जिसमे विद्यालय के आचार्य/दीदी ,भैया/बहिनो ने बढचढ कर भाग लिया।
शैक्षणिक उत्कृष्टता – विद्यालय मे शैक्षिणक उत्कृष्टता के लिए विद्यालय में प्राचार्य एवं आचार्य/दीदी द्वारा भैया/बहिनो का विशेषमार्ग दर्शन दिया जाता है जिसके कारण हमारा विद्यालय नगर मे श्रेष्ठ अध्यापन के लिए जाना जाता हैं ।

प्रति शनिवार बाल सभा,शिशु सभा, बालिका शिक्षा, का कार्यक्रम किये जाते है। इसके अन्तर्गत विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिता सम्पन्न की जाती हेैं ।

प्रति सप्ताह कक्षाशः दो प्रयोग किये जाता हैं भैया बहिन को नवाचार के माध्यम से प्रयोगो का सम्पन्न कराया जाता है। विज्ञान शिक्षक आचार्य दीदी बच्चो को नये प्रयोग सिखाते हेैं।

पुस्तकालय मे विभिन्न प्रकार की पुस्तको का संग्रह किया जाता है। हमारे विद्यालय में शैक्षणिक पुस्तको के अलावा ज्ञानवर्धक पुस्तको का भी संग्रह भी है। पुस्तको का वितरण भेैया /बहिनो, आचार्य/दीदी को पुस्तक वितरण पंजी के माध्यम से किया जाता है। इस पुस्तकालय का संचालन प्रभारी आचार्य जी किया जाता हैंे।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी
प्रतिवर्ष श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर विद्यालय में सभी आचार्य दीदी के सहयोग से श्रीकृष्ण स्वरूप , झांकियां ,मटकीफोड प्रतियोगिता , सास्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।
जिसमें नगर के गणमान्य नागरिको का सहयोग रहता है।

सूर्यनमस्कार –
सूर्यनमस्कार – प्रतिवर्ष 12 जनवरी को विवेकानंद जंयती एवं सरस्वती विद्या प्रतिष्ठान की योजना के अुनसार सूर्यनमस्कार महायज्ञ का आयोजन किया जाता है। जिसमें विद्यालय के भैया बहिनों ,आचार्य दीदी, अभिभावक 10 दिनो तक प्रतिदिन सूर्यनमस्कार लगाते हैं ।